Best Place for Online Learning

Structure of C Programming | In Hindi

इस पोस्ट में हम Structure of C Programming  के बारे में जानेंगे  जो की C Programming को सिखने में काफी अच्छी मददगार  होगी :-




Read More

1. Documentation Section :- यह एक ऐसा जरिया है जिसकी मदद से हम कुछ  ऐसी   विशेष टिप्पणियाँ  लिखते हैं जिनके  प्रयोग से यह जानने में साहयता मिलती है की उस  विशेषतायें क्या हैं  और किस तरह के काम करने  के लिए प्रोग्राम को बनाया गया है।


2. Link Section :- प्रोग्राम के इस भाग में हमें अपने प्रोग्राम  की हेडर फाइलों को डिक्लेयर करना पड़ता है जिनका उपयोग हम अपने प्रोग्राम में करते है।  इनकी साहयता से हमारा प्रोग्राम अच्छी तरह से काम कर पाता है।


3. Definition Section :- इसमें हम उन  सभी वरियेबल्स को Define  करते हैं  जिनका इस्तेमाल हम प्रोग्राम में सीधे तरीके से करते है और ये सभी सिन्थराक होते हैं।   अन्य भाषा  कहा जाये तो इसे Global Constant भी कहते हैं।


4.Global Declaration Section :- जब कभी भी हम वरियेबल्स को Global Declaration Section के भीतर परिभाषित  कर देते हैं तो उसके बाद  जब  भी हमें उस वरियेबल्स की आवश्यकता होती है तो इसे कभी भी प्रयोग किया जा सकता है।


5. Main Function Section ( ) :- यह सी प्रोग्रामिंग का  वह महत्वपूर्ण अंग है जिसके बिना हमारा प्रोग्राम कभी कम्पाइल नही करेगा क्योकि जब भी हम अपने प्रोग्राम की Execution करते हैं तो यह सबसे पहले एग्जीक्यूट होने वाला Part है।  जब प्रोग्राम रन करता है तो वो  सबसे पहले main( ) Function को ही Search करता है।


6.Opening Parenthesis ( { ) :- जब हमारे प्रोग्राम को main( ) Function मिल जाता है तो वो उसके बाद { को ढूंढता है जो की किसी भी प्रोग्राम का  अहम हिस्सा होता है।

7. Declaration Part :- इस भाग में हम देखते हैं की हमने जितने भी वरिएबल्स परिभाषित किये थे उनके लिए प्रोग्राम अपनी मेमोरी में जगह बनाकर उन्हें Store कर  लेता है  और Execution के वक्त या उनकी आवश्यकता के अनुसार इस्तेमाल किया जाता है।


8. Executable Part :- यह प्रोग्राम का Second Last भाग है यहाँ  हम उस स्थान पर होते हैं जहाँ प्रोग्राम की सभी तरह की स्टेटमेंट होती हैं जिनके  उपयोग से हमे हमारे प्रोग्राम से परिणाम प्राप्त होता है। और तो  और वो भी यही भाग है जहाँ से  User के लिए Interface का काम प्रारम्भ हो जाता है।


9.Closing Parenthesis :- यह किसी भी  प्रोग्राम को बंद करने के लिए इस्तेमाल किया  जाता है।


10. Sub Program Section :- प्रोग्राम के इस भाग में main( ) Function तो सिर्फ एक ही है लेकिन जब हम User Defined Function की  बात करते हैं तो  यह कई प्रकार के हो सकते हैं।

Function 1;
Function 2;
.............
.............
Function n;


अब हम इसके Diagram के माध्यम  जानेंगे की आखिर Structure of C Programming है क्या :-





Studyportal4all. Powered by Blogger.
Copyright © Studyportal4all | Powered by Blogger
Design by Viva Themes | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com